Kabir Das Jayanti 2024: कबीर दास जयंती

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

देश भर में संत कबीर दास जयंती शनिवार 22 जून 2024 को मनाई जाएगी. संत कबीर दास का जन्म उत्तर प्रदेश में मुस्लिम माता-पिता के यहाँ हुआ था। उन्होंने कम उम्र में ही आध्यात्मिकता में रुचि दिखाई और खुद को भगवान राम और भगवान अल्लाह की संतान बताया। उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान में कोई रुचि नहीं थी। महान कवि अपने समय के सभी धर्मों का समान रूप से सम्मान करते थे। उनके कार्यों से भक्ति आंदोलन अत्यधिक प्रभावित हुआ। उनकी कुछ प्रसिद्ध रचनाओं में अनुराग सागर, कबीर ग्रंथावली, बीजक, सखी ग्रंथ आदि शामिल हैं। उन्होंने ‘कबीर पंथ’ नामक एक आध्यात्मिक समुदाय की स्थापना की। आज इस समुदाय के बड़ी संख्या में अनुयायी हैं।

देशभर में कबीरदास के अनुयायी उनकी स्मृति में पूरा दिन बिताते हैं। उनकी लिखी बेहतरीन कविताएं बहुत से लोग पढ़ना पसंद करते हैं. उस दिन उनके अनुयायियों को उनकी महान शिक्षाओं के महत्व को समझाने के लिए सेमिनार आयोजित किए जाएंगे। उनके अनुयायियों का मानना है कि कबीरदास आज भी उनके दिलों में जीवित हैं। इस महान कवि की जन्मस्थली वाराणसी शहर इस दिन को भव्यता से मनाता है। कबीरचौरा मठ में उनके भक्तों के लिए आध्यात्मिक प्रवचनों का आयोजन किया जाता है। धर्मगुरु गुरु कबीरदास की अद्भुत शिक्षाओं का प्रचार करेंगे। इस दिन, आप देश के कई क्षेत्रों में कबीर के मंदिरों में उत्कृष्ट उत्सव मना सकते हैं। स्कूल और कॉलेज छात्रों के लिए उनकी कविताएँ पढ़ने के लिए एक मंच तैयार करेंगे।

भारत के कई क्षेत्रों में, विशेषकर उत्तर प्रदेश, बिहार और राजस्थान में, जहाँ कबीर का प्रभाव उल्लेखनीय है, संत कबीर जयंती जबरदस्त उत्साह के साथ मनाई जाती है। कबीर मंदिरों में दर्शनार्थी प्रार्थना करते हैं। वहाँ “कबीर सत्संग” नामक विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जहाँ लोग कबीर की कविताएँ गाते और सुनाते हैं। इन सभाओं में अक्सर भजन (भक्ति संगीत), आध्यात्मिक भाषण और कबीर की शिक्षाओं की चर्चा होती है। सामाजिक समानता पर कबीर के जोर को श्रद्धांजलि देने के लिए, लोग परोपकारी प्रयासों में भी भाग लेते हैं और भूखों को भोजन उपलब्ध कराते हैं।

संत कबीर दास जी के जन्म के संबध में कोई सटीक तिथि तो नहीं लेकिन फिर भी कबीर जी का जन्म विक्रम संवत 1455 ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा को माना जाता है। कहा जाता है कि कबीर दास जी का जन्म बनारस के मुस्लिम जुलाहा दंपत्ति के घर हुआ था, किन्तुं कुछ लोगों को मानना है कि कबीर जी ने जन्म नहीं लिया था बल्कि वो प्रकट हुए थे इसलिए कबीर जंयती को उनका ‘प्रकट्य दिवस’ मानकर भी मनाया जाता है।

नोट :- ज्योतिष अंकज्योतिष वास्तु रत्न रुद्राक्ष एवं व्रत त्यौहार से सम्बंधित अधिक जानकारी ‘श्री वैदिक ज्योतिष एवं वास्तु सदन’ द्वारा समर्पित ‘Astro Dev’ YouTube Channel & www.vaidicjyotish.com & Facebook Pages पर प्राप्त कर सकते हैं.II

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख