Kark Sankranti: श्रावण/कर्क संक्रांति विशेषाङ्क

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

नमो नारायण…ॐ आदित्याय विदमहे.. दिवाकराय धीमहि.. तन्न: सूर्य: प्रचोदयात.!

ॐ घृणि सूर्याय नमः…..सूर्यनारायण का एक से दूसरी राशि में प्रवेश की अवधी को संक्रान्ति के नाम से जाना जाता हैं,श्रावण संक्रांति के दिन सूर्य ग्रह मिथुन से कर्क राशि में प्रेवश करेंगे.श्रावण संक्रान्ति 16 जुलाई 2023 को मनाई जाएगी.संक्रांति पुण्य काल समय में दान-धर्म,कर्म के कार्य किये जाते हैं. जिनसे शुभ फलों की प्राप्ति होती है,इस समय पर किए गए दान पुण्य का कई गुना फल प्राप्त होता है. ऐसे में शंकर भगवान की पूजा का विशेष महत्व माना गया है.!

सूर्य का एक राशि से दूसरा राशि में प्रवेश ‘संक्रांति’ कहलाता है. सूर्य का कर्क राशि में प्रवेश ही ‘कर्क संक्रांति या श्रावण संक्रांति’ कहलाता है. सूर्य के ‘उत्तरायण ‘ होने को ‘मकर संक्रांति ‘ तथा ‘दक्षिणायन’ होने को ‘कर्क संक्रांति’ कहते हैं. ‘श्रावण’से ‘पौष’ मास तक सूर्य का उत्तरी छोर से दक्षिणी छोर तक जाना ‘ दक्षिणायन’ होता है. कर्क संक्रांति में दिन छोटे और रातें लंबी हो जाती हैं. शात्रों एवं धर्म के अनुसार ‘उत्तरायण’ का समय देवतायओं का दिन तथा ‘दक्षिणायन ‘देवताओं की रात्री होती है. इस प्रकार, वैदिक काल से ‘उत्तरायण’ को ‘देवयान’ तथा ‘ दक्षिणायन’ के ‘पितृयान’ कहा जाता रहा है.!

-:’कर्क संक्रांति पूजन’:-
कर्क संक्रांति समय काल में सूर्य पितरों का अधिपति माना जाता है. इस काल में षोड़श कर्म और अन्य मांगलिक कर्मों के आतिरिक्त अन्य कर्म ही मान्य होते हैं. श्रवण मास में विशेष रुप से श्री भगवान भोले नाथ की पूजा- अर्चना कि जाती है. इस माह में भगवान भोलेनाथ की पूजा करने से पुण्य फलों में वृ्द्धि होती है.!
इस मास में प्रतिदिन श्री शिवमहापुराण व शिव स्तोस्त्रों का विधिपूर्वक पाठ करके दुध, गंगा-जल, बिल्बपत्र, फल इत्यादि सहित शिवलिंग का पूजन करना चाहिए. इसके साथ ही इस मास में “ऊँ नम: शिवाय:” मंत्र का जाप करते हुए शिव पूजन करना लाभकारी रहता है. इस मास के प्रत्येक मंगलवार को श्री मंगलागौरी का व्रत, पूजान इतियादि विधिपूर्वक करने से स्त्रियों को विवाह, संतान व सौभाग्य में वृद्धि होती है.!

-:’सावन संक्रांति महत्व’:-
सावन संक्रांति अर्थात कर्क संक्रांति से वर्षा ऋतु का आगमन हो जाता है. देवताओं की रात्रि प्रारम्भ हो जाती है और चातुर्मास या चौमासा का भी आरंभ इसी समय से हो जाता है. यह समय व्यवहार की दृष्टि से अत्यधिक संयम का होता है क्योंकि इसी समय तामसिक प्रवृतियां अधिक सक्रिय होती हैं. व्यक्ति का हृदय भी गलत मार्ग की ओर अधिक अग्रसर होता है अत: संयम का पालन करके विचारों में शुद्धता का समावेश करके ही व्यक्ति अपने जीवन को शुद्ध मार्ग पर ले जा सकने में सक्षम हो पाता है.!
इस समय उचित आहार विहार पर विशेष बल दिया जाता है. इस समय में शहद का प्रयोग विशेष तौर पर करना लाभकारी माना जाता है. अयन की संक्रांति में व्रत, दान कर्म एवं स्नान करने मात्र से ही प्राणी संपूर्ण पापों से मुक्त हो जाता है. कर्क संक्रांति को ‘दक्षिणायन’ भी कहा जाता है इस संक्रांति में व्यक्ति को सूर्य स्मरण, आदित्य स्तोत्र एवं सूर्य मंत्र इत्यादि का पाठ व पूजन करना चाहिए जिसे अभिष्ट फलों की प्राप्ति होती है. संक्रांति में की गयी सूर्य उपासना से दोषों का शमन होता है. संक्रांति में भगवान विष्णु का चिंतन-मनन शुभ फल प्रदान करता है.!

नोट :- अपनी पत्रिका से सम्वन्धित विस्तृत जानकारी अथवा ज्योतिष, अंकज्योतिष,हस्तरेखा, वास्तु एवं याज्ञिक कर्म हेतु सम्पर्क करें.!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख