Paush Purnima-Gurupushya Yoga: पौष पूर्णिमा-गुरुपुष्य योग क्रय (खरीदने) हेतु अद्भुत योग

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

25 जनवरी को पौष पूर्णिमा के साथ सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि और गुरु-पुष्य का संयोग बनेगा। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में इस तरह के योग को बहुत ही शुभ और फलदायी माना गया है।

जय नारायण की..वर्ष 2024 का शुभारम्भ अद्वितीय संयोग के साथ हुवा हैं 22 जनवरी को श्रीरामलला विराजित हुए हैं 23 जनवरी को भौमप्रदोष और 25 जनवरी को पौष पूर्णिमा के दिन गुरुपुष्य सहित अनेकानेक योगों का शुभ संयोग बन रहा है,इस वर्ष पौष पूर्णिमा के साथ सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि योग और गुरु-पुष्य का संयोग बन रहा हैं,वैदिक ज्योतिष शास्त्र में इस तरह के योग को बहुत ही शुभ और फलदायी होते है,शास्त्रों के अनुसार इस शुभ योग में यदि विधि-विधान पूर्वक भगवान विष्णु, मां लक्ष्मी और चंद्रमा की पूजा की जाए तो मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है,यह शुभ संयोग पूजन के अतिरिक्त भूमि भवन वाहन आभूषण आदि वस्तुएं क्रय (खरीदने) हेतु भी सर्वोत्तम शुभ मुहूर्तों में से एक मुहूर्त हैं.!
पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व होता है,हर माह अमावस्या के बाद पूर्णिमा आती है,पौष माह में पड़ने वाली पूर्णिमा तिथि को पौष पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है,पूर्णिमा तिथि पर स्नान और दान करने का विशेष महत्व होता है,25 जनवरी को पौष पूर्णिमा है,हिंदू पंचांग के अनुसार इस वर्ष पौष पूर्णिमा के साथ सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि, रवि योग, प्रीति योग के साथ गुरु-पुष्य योग बन रहा है,25 जनवरी को पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग पूरे दिन रहेगा,वहीं गुरु-पुष्य और अमृत सिद्धि योग सुबह 08 बजकर 16 मिनट से 26 जनवरी को सुबह 07 बजकर 12 मिनट तक रहेगा.!

-:’गुरु-पुष्य योग क्रय (खरीददारी) हेतु शुभ योग’:-
गुरु-पुष्य योग में सोना-चांदी और आभूषण की खरीदारी करना बहुत ही शुभ माना जाता है,इस योग में अगर सोने-चांदी की खरीदारी की जाती हैं तो इसमें आने वाले समय में कई गुने की वृद्धि होती है। इसके अलावा गुरु-पुष्य योग में सोना-चांदी की खरीदारी करने पर मां लक्ष्मी की विशेष कृपा मिलती है। इस योग में खरीदारी से सुख-समृद्धि और धन-धान्य में वृद्धि होती है.!

-:’भूमि भवन वाहन वाहन क्रय (खरीददारी) का शुभ मुहूर्त’:-
25 जनवरी को गुरु-पुष्य के साथ बने अनोखे संयोग में वाहन, घर और जमीन की खरीदारी करना काफी शुभ होता है.!

पीली का संबंध गुरु बृहस्तपति से होता है,ऐसे में 25 जनवरी को गुरु-पुष्य योग में चने की खरीदारी करने से घर में सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी होगी,साथ ही कुंडली में गुरु ग्रह मजबूत होंगे और मां लक्ष्मी की विशेष कृपा भी हासिल होगी.!

पौष पूर्णिमा के दिन बने गुरु-पुष्य के योग में पूजा-पाठ से संबंधित चीजों को खरीदना बहुत ही शुभ माना गया है,ऐसे में इस दिन आप भगवान की मूर्ति या फिर धार्मिक पुस्तक खरीद सकते हैं.!

गुरु पुष्य नक्षत्र के दौरान जो जातक भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की खास पूजा करते हैं,उनके घर कभी धन-वैभव की कमी नहीं होती है,साथ ही इस दिन बहुत से लोग खरीदारी और नए कार्य की शुरुआत भी करते हैं,तो आइए जानते हैं गुरु पुष्य नक्षत्र के लाभ और उससे जुड़े कुछ अचूक उपाय :-

-:’गुरु पुष्य योग के लाभ’:-
-:इस दिन लोग कोई भी धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियां शुरू कर सकते हैं.II
-:इस दिन नया वाहन खरीदा जा सकता है.II
-:इस शुभ दिन पर सोना और अन्य आभूषण खरीदना फायदेमंद माना गया है.II
-:गुरु पुष्य योग पर नए व्यापारिक कार्य की शुरुआत करना शुभ रहता है.II
-:इस दिन जमीन, संपत्ति और घर खरीदना अच्छा माना गया है.II
-:यह दिन गृह प्रवेश के लिए भी शुभ है.II

-:’गुरु पुष्य योग पर करें ये उपाय’:-
-:इस नक्षत्र के दौरान पीला पुखराज धारण करना सर्वोत्तम माना गया है.II
-:इस दिन स्तयनारायण पूजा और हवन अवश्य करना चाहिए.II
-:लोग इस विशेष दिन पर श्री यंत्र पूजा और लक्ष्मी पूजा भी करते हैं.II
-:लोगों को मंदिर जाकर केले के पेड़ के नीचे जल, चना दाल और गुड़ चढ़ाना चाहिए.II

-:’गुरु पुष्य योग पर करें इन मंत्रों का जाप’:-
-:ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:.II
-:लक्ष्मी नारायण नम:.II
-:पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्
-:ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:.II

नोट :- ज्योतिष अंकज्योतिष वास्तु रत्न रुद्राक्ष एवं व्रत त्यौहार से सम्बंधित अधिक जानकारी ‘श्री वैदिक ज्योतिष एवं वास्तु सदन’ द्वारा समर्पित ‘Astro Dev’ YouTube Channel & www.vaidicjyotish.com & Facebook पर प्राप्त कर सकते हैं.!

नोट :- अपनी पत्रिका से सम्वन्धित विस्तृत जानकारी अथवा ज्योतिष,अंकज्योतिष,हस्तरेखा,वास्तु एवं याज्ञिक कर्म हेतु सम्पर्क करें...!
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख