Shukra Gochar 2024: शुक्र ग्रह का गोचर में परिवर्तन और आपकी राशि पर प्रभाव

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Shukra Gochar
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

जय माता दी….18 जनवरी को प्रेम और सौंदर्य के कारक ग्रह शुक्र राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं. इस दिन शुक्र देव वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में गोचर करेंगे.ज्योतिष शास्त्र में शुक्र देव को प्रेम, विवाह और सुख का कारक माना जाता है.शुक्र देव 25 से लेकर 27 दिनों तक एक राशि में रहते हैं. इसके बाद एक राशि से निकलकर दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं. वर्तमान समय में शुक्र देव वृश्चिक राशि में विराजमान हैं और जल्द ही राशि परिवर्तन करेंगे.!

शुक्र को रचनात्मकताएं, रोमांटिक अहसास, प्रेम, सौंदर्य, विवाह आदि का कारक ग्रह माना जाता है. इसलिए शुक्र के गोचर को वैदिक ज्योतिष में बहुत महत्वपूर्ण माना गया है. शुक्र का राशि परिवर्तन हर राशि पर कोई न कोई प्रभाव जरूर डालता है. शुक्र को सभी ग्रहों में सबसे चमकदार ग्रह माना जाता है. चूंकि शुक्र एक शुभ ग्रह है इसलिए कुंडली में इसकी अच्छी स्थिति से जातकों को जीवन में कई सुख सुविधाएं मिलती हैं लेकिन मुख्य रुप से प्रेम, भौतिक सुखों में इसकी मजबूती से वृद्धि होती है. शुक्र की उच्च राशि मीन है, वहीं धनु राशि में शुक्र का होना सामान्य माना जाता है. हालांकि, शनि, और केतु के साथ शुक्र की मित्रता होती है. वहीं ये बृहस्पति के साथ सामान्य फल देने वाला ग्रह है. ऐसे में शुक्र का राशि परिवर्तन सभी राशियों के लिए खास रहेगा.!

सुख समृद्धि के कारक शुक्र 18 जनवरी को रात्रि 20:56 मिनट पर वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में प्रवेश करेंगे. धनु राशि में शुक्र देव 25 दिनों तक रहेंगे, इस दौरान 29 जनवरी को पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे और 09 फरवरी को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे. इसके बाद 11 फरवरी को मकर राशि में गोचर करेंगे.!

शुक्र कहें या वीनस को ज्योतिष में स्त्री ग्रह भी माना जाता है.यह वृषष और तुला राशि के स्वामी हैं. शुक्र लाभ के साथ ही जीवन में सुख-समृद्धि का भी कारक होता है.व्यक्ति की कलात्मकता का भी विकास होता है. किसी की कुंडली में ये ग्रह कमजोर या मजबूत हो, दोनों ही स्थिति में काफी मायने रखता है. ज्योतिष में शुक्र अच्छे कपड़े, विवाह, आमदनी, नारी, ब्राह्मण, पत्नी, यौन जीवन का सुख, फूल, वाहन, चांदी, आनंद, कला, वाद्ययंत्र और राजसी प्रवृत्ति का कारक ग्रह है. शुक्र के राशि परिवर्तन होने से इन मामलों संबंधी बदलाव देखने को मिलते हैं.!

-:”शुक्र ग्रह के धनु राशि में गोचर का प्रभाव”:-
धनु राशि में शुक्र के गोचर करने से धर्म, अर्थ और काम ये तीन पुरूषार्थ सफल होते हैं. शुक्र के प्रभाव से बड़े समाजिक कार्य पूरे हो सकते हैं. धनु राशि में शुक्र के आने से प्रशासनिक और राजनैतिक मामलों में बड़े बदलाव हो सकते हैं. इन क्षैत्रों से जुड़े लोगों के लिए समय अच्छा कहा जाता है. शुक्र के राशि परिवर्तन से कई लोगों की सेहत में भी उतार-चढ़ाव आ सकते हैं. जॉब और बिजनेस में तरक्की के योग बनेंगे. विपरित लिंग के लोगों के कारण कामकाज में बदलाव होने की भी संभावना है. सुख-सुविधाएं, यात्राएं और शारीरिक सुख संबंधी मामलों में महत्वपूर्ण बदलाव होने की संभावना है.!

शुक्र के पास अमृत संजीवनी है और शुक्र पृथ्वी के साथ है. वस्तुओं की लागत बढ़ सकती है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी शुभ असर देखने को मिलेगा. ललित कलाओं की तरफ आप का रूझान हो सकता है. यदि आप मनोरंजन के क्षेत्र से जुड़े हैं तो आपको शुभ फल प्राप्त होगा. वहीं मीडिया आदि के क्षेत्र से जुड़े व्यक्तियों को भी यह शुक्र लाभ कराने वाला होगा. जॉब और बिजनेस से संबंधित परेशानियां दूर होंगी.!

शुक्र ग्रह के उपाय: मां लक्ष्मी अथवा मां जगदम्बा की पूजा करें. भोजन का कुछ हिस्सा गाय, कौवे और कुत्ते को दें. शुक्रवार का व्रत रखें और उस दिन खटाई न खाएं. चमकदार सफेद एवं गुलाबी रंग का प्रयोग करें. श्री सूक्त का पाठ करें. शुक्रवार के दिन सफेद वस्त्र, दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगे कपड़े, चांदी, चावल इत्यादि वस्तुएं दान करें.!

अनुकूल: मिथुन, कर्क और मीन
सामान्य: मेष, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु और कुंभ
प्रतिकूल: वृष और मकर

नोट :- ज्योतिष अंकज्योतिष वास्तु रत्न रुद्राक्ष एवं व्रत त्यौहार से सम्बंधित अधिक जानकारी ‘श्री वैदिक ज्योतिष एवं वास्तु सदन’ द्वारा समर्पित ‘Astro Dev’ YouTube Channel & www.vaidicjyotish.com & Facebook https://www.facebook.com/astrodev101 पर प्राप्त कर सकते हैं.!

नोट :- अपनी पत्रिका से सम्वन्धित विस्तृत जानकारी अथवा ज्योतिष,अंकज्योतिष,हस्तरेखा,वास्तु एवं याज्ञिक कर्म हेतु सम्पर्क करें...!
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख