Sujanma Dwadashi 2024: सुजनम द्वादशी

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

नमो नारायण……..सुजनम द्वादशी पोष मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को मनाई जाती है। यह त्यौहार पुत्रदा एकादशी के अगले दिन यानी कि से शुरू होता है। द्वादशी तिथि. इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस व्रत का महत्व तब और बढ़ जाता है जब यह तिथि ज्येष्ठा नक्षत्र के दिन पड़ती है, इसलिए इस दिन व्रत, पूजा और इससे जुड़े सभी काम करने से भक्त को शुभ फल की प्राप्ति होती है.!

पौष मास की द्वादशी तिथि को भगवान विष्णु के नारायण स्वरूप की पूजा की जाती है और ‘नमो नारायण’ मंत्र का जाप करना चाहिए। इस दिन मुख्य रूप से भगवान विष्णु के नारायण स्वरूप की पूजा की जाती है.!

-:’सुजनं द्वादशी महात्मया’:-
सुजनम द्वादशी के बारे में यह माना जाता है कि सभी व्रतों में से जो व्रत सबसे अधिक उत्तम फल देने वाला और कल्याण प्राप्ति का साधन है, वह सुजनम द्वादशी व्रत है,इस दिन यदि कोई भक्त स्नान करके भगवान विष्णु की पूजा करता है, व्रत रखता है और दिन के तीनों समय उनकी पूजा करता है, तो भक्त को इस व्रत का संपूर्ण फल मिलता है और उसे मेरे धाम की प्राप्ति होती है। उसके सभी अशुभ कर्म और पाप भी नष्ट हो जाते हैं.!
भगवान विष्णु की पूजा एकादशी और द्वादशी दोनों तिथियों पर समान रूप से की जाती है। ये दोनों तिथियां भगवान विष्णु से संबंधित हैं,यह दोनों तिथियां भगवान विष्णु को प्रिय हैं और इस तिथि पर अगर पूरे विधि-विधान से पूजा की जाए तो यह बेहद शुभ मानी जाती है.!
धर्म शास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए इन दोनों तिथियों पर पूजा करनी चाहिए,यदि किसी कारणवश भक्त एकादशी तिथि का व्रत नहीं रख पाता है तो भक्त भगवान विष्णु का आशीर्वाद पाने के लिए केवल सुजनम द्वादशी का व्रत भी कर सकता है,ऐसा भी कहा जाता है कि “पोष मास की सुजनम द्वादशी के दिन व्रत रखने और भगवान विष्णु का नाम लेने से जातक को अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है.!
यदि कोई भक्त हर साल सुजनम द्वादशी का व्रत करता है और 12 वर्षों तक इसका पालन करता है, तो उसे भगवान विष्णु की परम कृपा प्राप्त होती है,भक्त की सभी कठिनाइयां दूर हो जाती हैं और उसे रोगों से भी रक्षा मिलती है,यदि कोई भक्त शुद्ध मन से द्वादशी का व्रत रखता है,भगवान विष्णु की पूजा करता है और उन्हें चंदन, तुलसी, धूप आदि अर्पित करता है, तो उसे श्री विष्णु का सानिध्य प्राप्त होता है और उनका आशीर्वाद भी प्राप्त होता है.!

-:’सुजनम द्वादशी की पूजा विधि’:-
-:दिन की शुरुआत भगवान विष्णु की पूजा से करनी चाहिए.!
-:दैनिक कार्यों से मुक्त होने के बाद भक्त को पानी में गंगाजल डालकर स्नान करना चाहिए.!
-:भगवान का पूजन षोडशोपचार से करना चाहिए.!
-:श्री नारायण की पूजा करनी चाहिए और उनकी मूर्ति स्थापित करनी चाहिए.!
-:भगवान को चंदन, अक्षत, तुलसी और फूल चढ़ाने चाहिए.!
-:भगवान की मूर्ति को ‘पंचामृत’ से स्नान कराना चाहिए जिसमें दूध, दही, घी, शहद और चीनी शामिल हो,इसके बाद मूर्ति को साफ करके सुंदर वस्त्रों से सजाना चाहिए.!
-:भगवान को दीपक, गंध, फूल और धूप अर्पित करना चाहिए.!
-:आरती के बाद, भगवान को प्रसाद अर्पित करना चाहिए और भक्त को सभी गलतियों के लिए क्षमा मांगनी चाहिए और पूरे परिवार के लिए उनका आशीर्वाद मांगना चाहिए.!
-:भगवान का नैवेद्य सभी लोगों में बांटना चाहिए। यदि संभव हो तो सामर्थ्य के अनुसार ब्राह्मणों को भोजन और दक्षिणा देनी चाहिए.!

सुजनम द्वादशी व्रत का आरंभ एकादशी तिथि से करना सर्वोत्तम होता है,यदि संभव हो तो द्वादशी के दिन व्रत आरंभ करना चाहिए,पूरे दिन व्रत रखने के बाद रात्रि में जागरण करना चाहिए और अगले दिन स्नान करके ब्राह्मणों को भोजन और फल दान करना चाहिए और सामर्थ्य के अनुसार दान देना चाहिए,अंत में व्रती को भोजन करना चाहिए,जो व्यक्ति इस व्रत को पूरी निष्ठा से करता है वह भगवान के करीब पहुंच जाता है,वह विष्णु लोक का स्वयंसेवक बन जाता है,इस व्रत को करने से भक्त के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और उसे सभी सांसारिक सुखों का आनंद भी मिलता है.!

-:’सुजनम द्वादशी मंत्र’:-
सुजनम द्वादशी के दिन श्री नारायण के मंत्रों का जाप करना लाभकारी सिद्ध होता है,श्री नारायण का स्वरूप शांत एवं आनंदमय है,वह संसार का पालनकर्ता है,भगवान की पूजा करने से भक्त की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं और उसे सुख की प्राप्ति होती है,इस दिन निम्नलिखित मंत्रों का जाप करना चाहिए.!

-:’ओम नारायणाय नमः’
-:’ओम नारायणाय विद्महे।’ वासुदेवाय धीमि. तन्नो विष्णु प्रचोदयात्’
-:’ओम नमो नारायण।’ श्रीमन् नारायण नारायण हरि हरि।’

-:’द्वादशी व्रत का महत्व’:-
भागवत और विष्णु पुराण के अनुसार द्वादशी पूजन का बहुत महत्व है,द्वादशी व्रत को स्वयं भगवान श्रीकृष्ण महातमाय कहते हैं,जब भगवान कृष्ण से द्वादशी व्रत के लाभों के बारे में पूछा गया,तो उन्होंने उत्तर दिया ‘हे भक्त वत्सल, द्वादशी व्रत सभी व्रतों में सर्वोच्च और लाभकारी है,द्वादशी व्रत का जो माहात्म्य नारद जी ने बताया है,वही मैं तुमसे कहता हूँ, कृपया उसे ध्यानपूर्वक सुनो,जो व्यक्ति द्वादशी तिथि को मेरी पूजा करता है उसे विभिन्न यज्ञों के समान फल मिलता है,भक्त की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं,जिस प्रकार मुझे एकादशी प्रिय है, उसी प्रकार द्वादशी भी प्रिय है.!

नोट :- ज्योतिष अंकज्योतिष वास्तु रत्न रुद्राक्ष एवं व्रत त्यौहार से सम्बंधित अधिक जानकारी ‘श्री वैदिक ज्योतिष एवं वास्तु सदन’ द्वारा समर्पित ‘Astro Dev’ YouTube Channel & www.vaidicjyotish.com & Facebook पर प्राप्त कर सकते हैं.!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख