Sun Transit in Gemini: सूर्य नारायण का मिथुन राशि में प्रवेश और आपकी राशि पर प्रभाव

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

ॐ घृणि सूर्याय नमः..नमो नारायण…..14/15 जून की मध्यरात्रि 24 बजकर 27 मिनट पर सूर्य नारायण दैत्याचार्य शुक्र की वृषभ राशि का गोचर पूर्ण कर युवराज बुद्ध की मिथुन राशि में प्रवेश कर रहे हैं तथा 16 जुलाई तक सूर्य ग्रह मिथुन राशि का गोचर करेंगे,सूर्य ग्रह का बृष राशि में प्रवेश करने से उत्कृष्ट योग,बुद्धादित्य योग,शुक्रादित्य योग, चतुर्ग्रही योग आदि अनेकों शुभ योग,इन विशेष योगों के प्रभाव से कुछेक राशि के जातकों शुभफल प्राप्त होगा तो वहीँ कुछेक राशि के जातकों को करना पड़ेगा कुछ संघर्ष.30 वर्षों से भी अधिक अवधी का ज्योतिष के क्षेत्र में अनुभव रखने वाले “ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री” जी से जानिए सूर्य ग्रह के गोचर में इस राशि परिवर्तनका आपकी राशि पर पड़ेगा कैसा प्रभाव.:-

मेष राशि -: राशि से द्वितीय धन भाव में गोचर करते हुए सूर्य के उग्र प्रभाव स्वरूप आपको स्वास्थ्य विशेष करके दाहिनी आंख और हड्डियों से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। व्यापार संबंधी मामलों में उन्नति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता मिलेगी। विद्यार्थी वर्ग विदेश में पढ़ाई करने के लिए जाने का प्रयास कर रहे हों तो उस दृष्टि से ग्रह स्थितियां अनुकूल रहेंगी। पैतृक संपत्ति संबंधी विवाद हल होंगे। कार्यक्षेत्र में भी षड्यंत्र का शिकार होने से बचें.।

वृषभ राशि -: आपकी राशि में गोचर करते हुए सूर्य का प्रभाव अप्रत्याशित किन्तु सुखद परिणाम का सामना करवाएंगे। यद्यपि कहीं न कहीं शारीरिक पीड़ा का सामना करना पड़ेगा किंतु केंद्र अथवा राज्य सरकार के विभागों के प्रतीक्षित कार्य संपन्न होंगे। किसी सरकारी टेंडर के लिए आवेदन करना चाह रहे हों तो उस दृष्टि से भी ग्रह-गोचर बेहद अनुकूल रहेगा। शासन सत्ता का पूर्ण सहयोग मिलेगा। मान-सम्मान तथा पद प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी। चुनाव संबंधी निर्णय भी सकारात्मक रहेंगे.।

मिथुन राशि -: राशि से बारहवें व्यय भाव में गोचर करते हुए सूर्य देव अत्यधिक भागदौड़ और खर्च का सामना करवाएंगे। विवादों से दूर रहना समझदारी रहेगी। स्वास्थ्य विशेष करके बाई आंख से संबंधित समस्या से सावधान रहना पड़ेगा। पड़ोसियों से संबंध बिगड़ने न दें। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें। कोई भी कार्य जब तक पूर्ण न हो जाए उसे सार्वजनिक न करें। नए लोगों से मेल-जोल बढ़ेगा। विदेशी मित्रों तथा संबंधियों से भी सहयोग के योग बन रहे हैं। विदेश यात्रा भी कर सकते हैं.।

कर्क राशि -: राशि से एकादश लाभ भाव में गोचर करते हुए सूर्य आपके लिए बेहतरीन सफलता कारक रहेंगे। काफी दिनों के प्रतीक्षित कार्य तो संपन्न होंगे ही शीर्ष नेतृत्व से भी सहयोग मिलेगा। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों तथा बड़े भाइयों से मतभेद बढ़ने न दें। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। नवदंपति के लिए संतान प्राप्ति और प्रादुर्भाव के भी योग। प्रेम संबंधी मामलों में उदासीनता रहेगी। प्रेम विवाह भी करना चाह रहे हों तो निर्णय लेने में जल्दबाजी में न करें। रचनात्मक कार्यों में सफलता के योग हैं.।

सिंह राशि -: राशि से दशम कर्म भाव में गोचर करते हुए सूर्य का प्रभाव आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है, जो सफलता चाहें जैसी सफलता चाहें हासिल कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र का भी विस्तार होगा नौकरी में पदोन्नति और सम्मान वृद्धि होगी। स्थान परिवर्तन के लिए प्रयास कर रहे हों तो उस दृष्टि से भी समय अनुकूल रहेगा। जमीन जायदाद संबंधी मामलों का निपटारा होगा। वाहन का क्रय भी करना चाह रहे हों तो उसके लिए भी अवसर बेहतरीन रहेगा। आकस्मिक धन प्राप्ति के योग.।

कन्या राशि -: राशि से नवम भाग्य भाव में गोचर करते हुए सूर्य देव आरम्भ में कुछ कार्य बाधा का सामना करवाएंगे किंतु हताश न हो अंततः सफलता आपको ही मिलेगी। आध्यात्मिक उन्नति होगी। जरूरतमंदों की मदद करने के लिए आगे आएंगे। मांगलिक कार्यों के संपन्न होने में थोड़ा और समय लगेगा। गुप्त शत्रुओं से बचें। विवादित मामले बाहर ही सुलझा लेना समझदारी रहेगी। कार्यक्षेत्र में षड्यंत्र का शिकार होने से बचें। योजनाओं को गोपनीय रखते हुए कार्य करेंगे तो पूर्ण सफल रहेंगे.।

तुला राशि -: राशि से अष्टम आयु भाव में गोचर करते हुए सूर्य का प्रभाव कई तरह के उतार-चढ़ाव और अप्रत्याशित सुखद परिणाम दिलाने वाला सिद्ध होगा। एक ओर जहां आपको पारिवारिक कलह और तनाव का सामना करना पड़ सकता है, वहीं दूसरी ओर कार्यक्षेत्र का विस्तार तो होगा ही सामाजिक पद प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आपके लिए किसी सम्मान अथवा पुरस्कार की भी घोषणा हो सकती है। विद्यार्थियों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए और प्रयास करने होंगे.।

वृश्चिक राशि -: राशि से सप्तम दांपत्य भाव में गोचर करते हुए सूर्य का प्रभाव बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। वैवाहिक वार्ता में थोड़ा और समय लगेगा। ससुराल पक्ष से संबंध बिगड़ने न दें। कार्यक्षेत्र का विस्तार तो होगा ही किसी बड़े व्यापार का आरंभ करना हो अथवा नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना हो तो उस दृष्टि से भी ग्रह-गोचर अनुकूल रहेगा। सरकारी सर्विस के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। किसी भी टेंडर के लिए आवेदन करना चाह रहे हों तो भी समय लाभदायक रहेगा.।

धनु राशि -: राशि से छठे शत्रु भाव में गोचर करते हुए सूर्यदेव का प्रभाव आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है। गुप्त शत्रु तो परास्त होंगे ही कोर्ट कचहरी के मामलों में भी निर्णय आपके पक्ष में आने के संकेत हैं। शासन सत्ता का पूर्ण सहयोग मिलेगा। अत्यधिक भागदौड़ के कारण थकान का अनुभव करेंगे। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। शोधपरक और आविष्कारक कार्यों में सफलता मिलेगी। नौकरी में स्थान परिवर्तन के लिए प्रयास करना चाह रहे हों तो अवसर उपयुक्त है.।

मकर राशि -: राशि से पंचम विद्या भाव में गोचर करते हुए सूर्य देव का प्रभाव अप्रत्याशित सुखद परिणामों का सामना करवाएगा। विद्यार्थियों और प्रतियोगिता में बैठने वाले छात्रों के लिए तो यह समय और अनुकूल रहेगा। नौकरी के लिए आवेदन करना हो विदेश में पढ़ाई करने के लिए जाने का प्रयास करना हो अथवा दूसरे देश के लिए वीजा का प्रयास करना हो तो हर प्रकार से अवसर उपयुक्त रहेगा। सरकारी विभागों के प्रतीक्षित कार्य संपन्न होंगे। चुनाव संबंधी निर्णय भी सुखद रहेगा.।

कुंभ राशि -: राशि से चतुर्थ सुख भाव में गोचर करते हुए सूर्य देव का प्रभाव बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। सफलताओं के बावजूद कहीं न कहीं पारिवारिक कलह और मानसिक पीड़ा का सामना करना पड़ेगा। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशीलन रहें। मित्रों तथा संबंधियों से अप्रिय समाचार प्राप्ति के योग। इस अवधि के मध्य किसी को भी अधिक धन उधार के रूप में न दें अन्यथा आर्थिक हानि का सामना करना ही पड़ेगा। भावनाओं में बहकर लिया गया निर्णय नुकसानदेय रहेगा। समाज के संभ्रांत लोगों से सम्बन्ध मजबूत बनेगा.।

मीन राशि -: राशि से तृतीय पराक्रम भाव में गोचर करते हुए सूर्य देव आपको साहसी और पराक्रमी तो बनाएंगे ही, आपके द्वारा लिए गए निर्णय और किए गए कार्यों की सराहना भी होगी। जो लोग आपको नीचा दिखाने की कोशिश में लगे थे वही मदद के लिए आगे आएंगे। समाज में आपका कद बढ़ेगा किसी बड़े सम्मानित पड़ की प्राप्ति के योग। परिवार में मांगलिक कार्यों का सुअवसर आएगा। मकान अथवा वाहन का क्रय करना चाह रहे हों तो उस दृष्टि से भी समय बेहद अनुकूल है.।

नोट :- ज्योतिष अंकज्योतिष वास्तु रत्न रुद्राक्ष एवं व्रत त्यौहार से सम्बंधित अधिक जानकारी ‘श्री वैदिक ज्योतिष एवं वास्तु सदन’ द्वारा समर्पित ‘Astro Dev’ YouTube Channel & www.vaidicjyotish.com & Facebook Pages पर प्राप्त कर सकते हैं.II

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख