Krishna Janmashtami: श्रीकृष्ण जन्मोत्सव

'ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री'

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print

जय श्रीकृष्णा……..इस वर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 06/07 सितम्बर को मनाई जाएगी,अर्द्धव्यापिनी भाद्रपद कृष्ण अष्टमी चंद्रोदय के समय रोहिणी नक्षत्र का शुभ संयोग होने पर “श्रीकृष्ण-जन्माष्टमी” को “श्रीकृष्ण-जयन्ती” के नाम से सम्भोधित किया जाता हैं,वर्ष 2023 में बुद्धवार 06 सितम्बर को अर्धब्यापिनी चंद्रोदय कालीन अष्टमी रोहिणीयुता हैं,अतैव इस विशेष वेला में “श्रीकृष्ण-जयन्ती” नमक पुण्यतम योग बना हैं,अतैव स्मार्त बुद्धवार 06 सितम्बर तथा वैष्णव गुरुवार 07 सितम्बर को व्रत रखना शास्त्र सम्मत होगा.।

—:श्री कृष्ण जन्म स्तुति:—-
भये प्रगट गोपाला दीन दयाला यसुमती के हितकारी |
हर्षित महतारी रूप निहारी मोहन मदन मुरारी ||
कंसासुर जाना मन अनुमाना पूतना बेग पठाई |
तेहि हर्षित धाई मन मुस्काई गयी जहाँ यदुराई ||
सोई जाई उठायी ह्रदय लगाई पयघर मुख महँ दीन्हा |
तब कृष्ण कन्हाई मन मुस्काई प्राण तास हरि लीन्हा ||
जब इन्द्र रिसाये मेघ बुलाये बस कर ताहि मुरारी |
गौअन हितकारी सुर मुनि सुखकारी नख पर गिरवर धारी ||
कंसासुर मारो अति हंकारी वृत्तासुर संहारी |
बकासुर आयो बहुत डरायो ताको बदन बिदारी |
तेहि दीन जान प्रभु चक्रपाणि ताहिदीनो है निज लोका |
ब्रम्हा सुर आयो बहु सुख पायो, बिगत भयो सबशोका ||
यह छंद अनूपा है रस रूपा, जो नर याको गावैं |
तेहि सम नहिं कोई, त्रिभुवन सोई मनवाँछित फल पावैं ||
दोहा……..
नन्द यशोदा तप कियो, मोहन से मन लाय |
देखो चाहत बाल सुख, रही कछुक दिन जाय ||
जो नक्षत्र मोहन भये, सो नक्षत्र, पर आय |
चारू बँधाये रीतिसब, करन यशोदा माय ||

—: मधुराष्टकं :—
मधुराष्टकंअधरम मधुरम वदनम मधुरमनयनम मधुरम हसितम मधुरम।
हृदयम मधुरम् गमनम् मधुरम्, मधुराधिपतेर अखिलम मधुरम॥१॥
वचनं मधुरं, चरितं मधुरं, वसनं मधुरं, वलितं मधुरम् ।
चलितं मधुरं, भ्रमितं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥२॥
वेणुर्मधुरो रेणुर्मधुर:, पाणिर्मधुर:, पादौ मधुरौ ।
नृत्यं मधुरं, सख्यं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥३॥
गीतं मधुरं, पीतं मधुरं, भुक्तं मधुरं, सुप्तं मधुरम् ।
रूपं मधुरं, तिलकं मधुरं, मधुरधिपतेरखिलं मधुरम् ॥४॥
करणं मधुरं, तरणं मधुरं, हरणं मधुरं, रमणं मधुरम् ।
वमितं मधुरं, शमितं मधुरं, मधुरधिपतेरखिलं मधुरम् ॥५॥
गुञ्जा मधुरा, माला मधुरा, यमुना मधुरा, वीची मधुरा ।
सलिलं मधुरं, कमलं मधुरं, मधुरधिपतेरखिलं मधुरम् ॥६॥
गोपी मधुरा, लीला मधुरा, युक्तं मधुरं, मुक्तं मधुरम् ।
दृष्टं मधुरं, शिष्टं मधुरं, मधुरधिपतेरखिलं मधुरम् ॥७॥
गोपा मधुरा, गावो मधुरा, यष्टिर्मधुरा, सृष्टिर्मधुरा।
दलितं मधुरं, फलितं मधुरं, मधुरधिपतेरखिलं मधुरम् ॥८॥॥
इति श्रीमद्वल्लभाचार्यविरचितं मधुराष्टकं सम्पूर्णम् ॥

—-: श्रीकृष्ण स्तुति :—-
नमो विश्वस्वरूपाय विश्वस्थित्यन्तहेतवे।
विश्वेश्वराय विश्वाय गोविन्दाय नमो नम:॥१॥
नमो विज्ञानरूपाय परमानन्दरूपिणे।
कृष्णाय गोपीनाथाय गोविन्दाय नमो नम:॥२॥
नम: कमलनेत्राय नम: कमलमालिने।
नम: कमलनाभाय कमलापतये नम:॥३॥
बर्हापीडाभिरामाय रामायाकुण्ठमेधसे।
रमामानसहंसाय गोविन्दाय नमो नम:॥४॥
कंसवशविनाशाय केशिचाणूरघातिने।
कालिन्दीकूललीलाय लोलकुण्डलधारिणे॥५॥
वृषभध्वज-वन्द्याय पार्थसारथये नम:।
वेणुवादनशीलाय गोपालायाहिमर्दिने॥६॥
बल्लवीवदनाम्भोजमालिने नृत्यशालिने।
नम: प्रणतपालाय श्रीकृष्णाय नमो नम:॥७॥
नम: पापप्रणाशाय गोवर्धनधराय च।
पूतनाजीवितान्ताय तृणावर्तासुहारिणे॥८॥
निष्कलाय विमोहाय शुद्धायाशुद्धवैरिणे।
अद्वितीयाय महते श्रीकृष्णाय नमो नम:॥९॥
प्रसीद परमानन्द प्रसीद परमेश्वर।
आधि-व्याधि-भुजंगेन दष्ट मामुद्धर प्रभो॥१०॥
श्रीकृष्ण रुक्मिणीकान्त गोपीजनमनोहर।
संसारसागरे मग्नं मामुद्धर जगद्गुरो॥११॥
केशव क्लेशहरण नारायण जनार्दन।
गोविन्द परमानन्द मां समुद्धर माधव॥१२॥

नोट :- अपनी पत्रिका से सम्वन्धित विस्तृत जानकारी अथवा ज्योतिष, अंकज्योतिष,हस्तरेखा, वास्तु एवं याज्ञिक कर्म हेतु सम्पर्क करें.!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on print
नये लेख